History of Olympics in Hindi – ओलंपिक खेलों का इतिहास और कुछ रोचक तथ्य

History of Olympics in Hindi

ओलंपिक खेलों को हर 4 साल में एक बार आयोजित किया जाता है। यह एक ऐसे आयोजित किए जाने वाले खेल है, जिसमें अलग-अलग तरह के खेलों की स्पर्धाए होती है। ओलंपिक खेलों को खेल का महाकुंभ भी कहा जाता है, जिसमें दुनिया के तमाम देश भाग लेते हैं। ओलंपिक में पदक जीतने का हर खिलाड़ी का सपना होता है। तो चलिए खेलों की इस महा प्रतियोगिता के बारे में इस आर्टिकल में जानते हैं।

History of Olympic Games in Hindi

ओलंपिक को कई भागों में बांट दिया गया है। और वह है ग्रीष्म कालीन ओलंपिक खेल, शीतकालीन ओलंपिक खेल, पैरालंपिक खेल, व राष्ट्रीय ओलंपिक समिति के नाम से भी जाना जाता है।

ओलंपिक खेल प्राचीन यूनान के ओलंपिया शहर में 776 ईसा पूर्व में हुआ करते थे, बाद में रोम में सम्राट थेओडोसियस ने इन खेलों पर रोक लगा दी थी। आधुनिक ओलंपिक खेल प्रतियोगिता का आरंभ यूनान के एथेंस शहर में 1896 ईस्वी को हुआ था। फ्रांस के बेड़ो पियो रे डि कुब ट्रेन नामक व्यक्ति को इस खेलों के पुनः आयोजन का शेर दिया जाता है। पहले तो ओलंपिक में महिलाओं की हिस्सेदारी नहीं थी लेकिन अगले पेरिस ओलंपिक में महिलाओं ने भी भाग लिया था।

1950 के दशक के दौरान अमेरिका और रूस आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण ओलंपिक पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गया था। ओलंपिक खेल हर एक देश के लिए श्रेष्ठता साबित करने का जरिया बन गया। साल 1980 में अमेरिका और उसके मित्र राष्ट्रों ने ओलंपिक का बहिष्कार किया था और 1984 में रूस ने इन खेलों में भाग नहीं लिया था।

History of Olympics in Hindi

Amazing Facts in Hindi | About Charminar in Hindi | Samay Ka Mahatva 

Essay on Olympic Games in Hindi under 300 Words

ओलंपिक खेलों का आयोजन 4-4 वर्षों के अंतराल पर होता रहा है। आधुनिक ओलंपिक खेलों की शुरुआत 1896 इं. से हुई थी। प्रथम विश्व युद्ध के कारण 1916 में छठे ओलंपिक खेलों का आयोजन नहीं हो सका था जिसके कारण 1920 के खेलों को सातवा खेल ही माना गया था।

इसी प्रकार 1940 में टोकियो में प्रस्तावित 12वी खेलो तथा 1944 में लंदन में प्रस्तावित 13 वे खेलों का आयोजन द्वितीय विश्व युद्ध के कारण नहीं हो सका था तथा बाद में 1948 लंदन में हुए खेलों को 14 वे खेल माना गया था। पिछले 30 वे ओलंपिक खेलों का आयोजन 2012 में लंदन में हुआ था। लंदन ही एकमात्र ऐसा शहर है जहां आधुनिक ग्रीष्म कालीन ओलंपिक खेल सर्वाधिक तीन ( 1908, 1948, व 2012 मैं ) आयोजित किए गए थे।

एथेंस, पैरिस व लांस एंजेल्स अमेरिका ही ऐसे शहर है जहां इन खेलों का आयोजन अबतक दो -दो बार हुआ है। ओलंपिक खेलों में सर्वाधिक 22 पदक अमेरिकी माइकल फेल्प्स ने जीते हैं। 2012 के लंदन ओलंपिक खेलों में 4 स्वर्ण व दो रजत सहित 6 पदक फेल्प्स ने जीते थे। जिस से सर्वाधिक 22 पदक जीतने का यह रिकॉर्ड उनके नाम हुआ था। उससे पूर्व यह रिकॉर्ड तत्कालीन सोवियत संघ कि जिम्नास्ट लारीसा लताय नीना के नाम था। जिन्होंने कुल 18 ओलंपिक पदक विभिन्न ओलंपिक खेलों में जीते थे। ओलंपिक खेलों का आयोजन अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति के  तत्वावधान में होता है। जर्मनी के थॉमस बस वर्तमान में इस समिति के अध्यक्ष है। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति का गठन फ्रांस के पियोरेडी कुबेरटीन ने 1894 मैं किया था कुबेर टीन को ही आधुनिक ओलंपिक खेलों का जनक माना जाता है।

ओलंपिक खेलों के साथ ही अब शीतकालीन ओलंपिक खेलों का आयोजन 1924 से अलग से होने लगा है। जिससे पारंपरिक ओलंपिक खेलों को अब ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों के नाम से जाना जाता है। इसके अतिरिक्त शारीरिक रूप से अशक्त खिलाड़ियों के लिए पैरालंपिक खेलों का आयोजन अलग से 1960 से शुरू किया गया है। तथा युवाओं के लिए ग्रीष्मकालीन युवा ओलंपिक खेल 2010 से तथा शीतकालीन ओलंपिक 2012 से शुरू किए गए हैं ! Citius, Altius Fortius ( लैटिन शब्द ) ओलंपिक खेलों का ‘मोटो’ है। जिसका अर्थ है – faster, Higher, and Stronger.

सफेद पृष्ठभूमि में पांच अलग-अलग रंगो में जैसे नील, पीले, काले, हरे, व लाल आपस में जुड़े हुए पांच छल्ले ओलंपिक खेलों के चिन्ह है यह छल्ले पांचो बसावट वाले महाद्वीपों को निरूपित करते हैं जो ओलंपिक ध्वज में भी सफेद पृष्ठभूमि पर उपर्युक्त 5 छल्ले ही दर्शाए गए हैं।

ओलंपिक खेलों में उद्घाटन समारोह में मार्च पास्ट में भागीदार देश अंग्रेजी वर्णमाला के क्रमानुसार शामिल होते हैं, किंतु ओलंपिक खेलों का जनक यूनान इस मार्च पास्ट में सबसे आगे होता है। जबकि मेजबान देश सबसे पीछे ! रियो ओलंपिक 2016 के शुभ कर है, जोकि ब्राज़ील ई वाइल्ड लाइफ पर आधारित एक जंतु है। जिसको vincios नाम दिया गया है।

History of Olympics in Hindi

भारत में ओलंपिक खेलों की अगर बात किया जाए तो, भारत ने वर्ष 1900 के पेरिस ओलंपिक प्रतियोगिता में भाग लिया था। तब  Norman Pritchard ने भारत की तरफ से दौड़ प्रतियोगिता में भाग लिया था और दो रजत पदक जीते थे।

Olympic Games List in Hindi ( India in Olympic Gmaes )

वर्ष 1928 के amsterdam ओलंपिक में भारत ने हॉकी खेल में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता था। 1932, 1936, 1948, 1952, 1956, 1964, और 1980 के ओलंपिक में भारत में हॉकी के खेल में स्वर्ण पदक जीते। 1960 के रोम ओलंपिक में भारत में रजत पदक हॉकी में अपना नाम किया था और 1968, 1972 के ओलंपिक में कांस्य पदक भारत ने जीते थे भारत ने हॉकी में अब तक 8 स्वर्ण व 1 रजत और 2 कांस्य पदक जीते हैं।

व्यक्तिगत स्पर्धा में पहला पदक 1952 के हेलसीकी ओलंपिक में जीता था। केडी जाधव ने कुश्ती प्रतियोगिता में कांस्य पदक जीता था। 1996 के अटलांटा ओलंपिक में लिएंडर पेस ने टेनिस में कांस्य पदक जीता था।

वर्ष 2000 के सिडनी ओलंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने भारोत्तोलन में कांस्य जीता था। 2004 के एथेंस ओलंपिक में भारत की ओर से एकमात्र रजत पदक शूटिंग में राज्यवर्धन सिंह राठौर ने जीता था। 2008 का बीजिंग ओलंपिक भारत के लिए बहुत खास रहा है क्योंकि इस ओलंपिक में भारत को पहला व्यक्तिगत स्वर्ण पदक मिला था। अभिनव बिंद्रा ने शूटिंग में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। 2012 के लंदन ओलंपिक में भारत ने 2 रजत और 4 कांस्य पदक अपने नाम किए थे। विजय कुमार ने शूटिंग में और सुशील कुमार ने कुश्ती में और गगन नारंग ने शूटिंग में कांस्य पदक जीतकर भारत का नाम रोशन किया था। मैरीकॉम ने बॉक्सिंग और साइना नेहवाल ने बैडमिंटन में कांस्य पदक जीता था।

2016 के रियो ओलंपिक में भारत का प्रदर्शन निराशाजनक रहा और भारत ने केवल 2 पदक जीते। बैडमिंटन में पीवी सिद्धू ने रजत पदक जीता और साक्षी मालिक ने कुश्ती में कांस्य पदक जीतकर भारत को पदक तालिका में स्थान दिलाया।

Information About Olympic Games in Hindi

1) ओलंपिक खेलों में भारत ने कुल 28 मेडल जीते हैं, 9 गोल्ड, 12 पीतल, 7 सिल्वर। एक तथ्य यह भी है कि भारत में ना तो आज तक ओलंपिक खेल हुए हैं और ना ही 2050 तक होगा।

2) ओलंपिक खेलों का इतिहास देखा जाए तो इनकी शुरुआत आज से 2794 साल पहले 776 B.C मैं ग्रीस के ओलंपिया में हुई थी यह खेल लगभग 12 शताब्दी तक जारी रहे, उसके बाद सम्राट ‘ Theodosius’ ने 393 A.D मैं बंद कर दिए। यह खेल ओलंपियन देवताओं को समर्पित थे।

3) ओलंपिक खेलों में एक मशाल जलाकर उड़ाई जाती है यह करीब 70 बार रूस से होकर गुजरती है।

4) ओलंपिक में भाग लेने वाले गोरे बिजनेस क्लास मैं सफर करते हैं एवं उनके पास खुद के पासपोर्ट होते हैं।

5) आधुनिक ओलंपिक में पहला मेडल जीतने वाले खिलाड़ी का नाम है James B. Connolly , इन्होंने यह मेडल 3 छलांग खेल में जीता था।

6 ) भारत की तरफ से ओलंपिक खेलों में सबसे पहले 1900 मैं भाग लिया गया था जिसमें भारत ने एथलेटिक्स मैं 2 सिल्वर मेडल जीते थे।

7) 1924 में टेनिस को ओलंपिक से निकाल दिया गया था। 1988 मैं फिर से जोड़ लिया गया।

8) 1900 में पैरिस ओलंपिक में 1st Position पर आने वाले लोगों को स्वर्ण पदक की जगह पेंटिंग दी गई थी।

9) WW 1 और WW 2 के कारण 1916, 1940, और 1944 के ओलंपिक खेलों का आयोजन नहीं हो पाया था।

10) आज तक के इतिहास में सबसे ज्यादा 202 देशों ने 2004 के एथेंस ओलंपिक में भाग लिया था।

11) 2014 के सोची विंटर ओलंपिक पर इतना खर्च किया गया जो उससे पहले हुए 13 ओलंपिक से भी ज्यादा था।

12) 2016 के रियो ओलंपिक में इतने कंडोम इस्तेमाल किए गए है कि प्रति खिलाड़ी 42 कांडम कुल 4 लाख 50,000 थे।

Note: तो दोस्तों, हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया History of Olympics in Hindi  को पढ़कर आप पसंद करेंगे। अगर आपको History of Olympics in Hindi अच्छा लगा हो तो अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं।

धन्यवाद —

About Shosti Dey

This is Shosti Dey a professional Hindi content writer and I like to write about health, fitness, social etc,

View all posts by Shosti Dey →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *